Advertisement

latest™

May 21, 2019

RBSE: 12th आर्ट्स का रिजल्ट यहां देखें । क्लास 12 आर्ट्स का रिजल्ट घोषित- अपना नाम और रोल नंबर डालकर रिजल्ट देखें

RBSE: 12th आर्ट्स का रिजल्ट यहां देखें ।  क्लास 12 आर्ट्स का रिजल्ट घोषित- अपना नाम और रोल नंबर डालकर रिजल्ट देखें


नमस्कार दोस्तों राजस्थान बोर्ड सीनियर एजुकेशन के क्लास 12 आर्ट्स का रिजल्ट जारी हो गया है आप राजस्थान बोर्ड सीनियर एजुकेशन अजमेर की वेबसाइट पर जाकर रिजल्ट देख सकते हैं ।

                     Result देखें latest..

आप इस लिंक से सीधा यहां से रिजल्ट देख सकते हैं आपको बता दें कि इस बार राजस्थान बोर्ड ऑफ सीनियर एजुकेशन क्लास 12 आर्ट्स मैं लगभग 5,30 लाख विद्यार्थियों ने आर्ट्स की परीक्षा दी थी उसका रिजल्ट आप यहां पर अपना नाम और रोल नंबर डालकर देख सकते हैं ।

RBSE 12 ARTS RESULT


  Class 12 science result देखें 

  Class 12 commerce result देखें 
March 28, 2019

कुलधरा का रहस्य । the real mystery of Kuldhara, Rajasthan

The real mistrey of kuldhara-rajasthan

कुलधरा: कुलधरा एक शापित गांव है जो राजस्थान के जैसलमेर से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यह गांव आज एक वीरान खंडहर है लगभग 1291 ईसवी सन में यह गाव  पालीवाल ब्राह्मणों के कारण जाना जाता था कहा जाता है कुलधरा में जो भी गया वापस नहीं आया क्या राज है कुलधरा का, क्यों आखिरकार यहां पर आत्माएं भटकती है!


Kuldhara mistery

राजस्थान का कुलधरा गांव अपनी भूतिया गतिविधियों के कारण पूरे विश्व में जाना जाता है पूरे भारत भर में कुलधरा के नाम से लोग कांपते हैं यहां आना पसंद नहीं करते क्योंकि जो भी आज तक कुलधरा में आया उनके साथ ऐसी घटनाएं घटी जो वह बयां नहीं कर पाते,

1291ईं में कुलधरा में पालीवाल ब्राह्मण जो कि पेसे से किसान थे। यहां पर अपनी खुशहाल जिंदगी जी रहे थे यहां का काम बहुत ही खुशहाल था यहां के ब्राह्मण बहुत ज्यादा खुश थे

 लोग जो भी धन जुटाते थे उससे वह अपने 
गांव को बनाने में खर्च करते थे और  यहां बसा दिया कुलधरा

 यह भी पढ़ें... भानगढ़ एक भूतों का किला जानिए भानगढ़ का रहस्य
 राजस्थान का यह गांव कुलधरा अपनी एक अच्छी सभ्यता और पालीवाल ब्राह्मणों के कारण जाना जाता था यहां जो मकान है पत्थरों  और लकड़ी की सहायता से बनाए गए थे

लेकिन एक रात क्या हुआ कि यह गांव पूरा वीरान हो गया क्यों आज जो भी कुलधरा जाता है वह वापस नहीं आता क्या कारण है ?


     The real story of kuldhara


कहा जाता है कि यहां का दीवान शालीन सिंह बहुत ज्यादा कुरूर था उस पर सता इस तरह छाई हुई थी कि वह कुछ भी करना सही मानता था यहां तक कि यहां की बहन बेटियों  की इज्जत के साथ खिलवाड़ उसका पैसा था वह एक वहशी दरिंदा था उसकी 9 शादियां हो चुकी थी ।

एक बार शालीन सिंह कुलधरा में किसानों से कर वसूलने के इरादे से आया तभी गांव कुलधरा के मुखिया की बेटी पर उसका दिल आ जाता है
 यह भी पढ़ें...इन 10 तरीकों से आप रोजाना 1000 कमा सकते हैं

 वह हर हालात में उसको पाना चाहता है उसको पाने की चाहत में है वह यहां के किसानों को प्रताड़ित करता था यहां के मुखिया को भी उसने साफ-साफ बोल दिया था कि वह अपनी बेटी का विवाह है मेरे साथ नहीं करेंगे तो मैं यहां के किसानों से 3 गुना कर वसूल लूंगा!

 और कर को 3 गुना कर दूंगा और यहां के पालीवाल ब्राह्मणों की जो कि किसान थे उनकी खेती में इतना कुछ नहीं होता था कि वह तीन गुणा कर दे सके. 

वह अपने सैनिक भेज कर यहां के किसानों को मारता-पीटता, प्रताड़ित करता रहता था

यह बात पालीवाल ब्राह्मणों को रास नहीं आई और  छोड़ कर चले गए और जाते जाते यह श्राप  दे गए,  कि इस गांव में जो भी आएगा उसका मरना निश्चित है यह गांव कभी नहीं बस सकेगा यहां पर केवल  आत्माएं ही बचेगी।

 और देखते देखते पूरा कुलधरा गांव एक वीरान खंडहर में तब्दील हो गया वहां पर सारे लोग जितने भी थे कुलधरा को छोड़कर चले गए और उस श्राप का असर इतना छाया कि आज तक कुलधरा में कोई भी गया वह वह एक बड़े हादसे का शिकार हो गया,कहा जाता है यहां पर दिन में उन लोगों की चीख सुनाई देती है 


 जो यहां कभी खुशियों से नाचते गाते थे और अपने गांव में एक अच्छी जिंदगी जी रहे थे

कहा जाता है जो भी पालीवाल ब्राह्मण इस काम को छोड़कर गए थे उन्होंने एक साथ सुसाइड कर लिया था वह सब मर गए थे और उन सब की आत्माओं ने इस गांव पर अपना डेरा जमा लिया और वही आत्माएं इस श्राप  को हकीकत में बदल रही है।



राजस्थान के जैसलमेर का यह कुलधरा गांव पूरे विश्व में अपनी भूतिया कहानियों के लिए जाना जाता है
कहते हैं.. दिन में हो या रात में कुलधरा के अंदर से कोई भी यात्री बस या गाड़ी से जाते हैं तो उनके साथ में कोई ना कोई घटना घटती ही है 

किसी को यहां पर बच्चों के रोने की आवाजें सुनाई देती है तो किसी को यहां पर महिलाओं के चीखने की ओर रोने की आवाजें सुनाई देती है ऐसा प्रतीत होता है कि यहां पर बहुत सारी महिलाएं हैं जो कुछ गा रही है कुछ कर रही है लेकिन जब यहां पर जाकर देखें तो यहां पर कुछ भी नहीं होता।

3-साल पहले 1 परिवार यहां पर दिन में अपनी पर्सनल गाड़ी से जा रहा था तो उनके साथ में कुछ ऐसा हुआ कि वह परिवार आज तक अपने घर नहीं लौट पाया दोस्तों यह कहानी हम आपको हमारी अगली आर्टिकल में बताएंगे यदि आपको कुलधरा को लेकर कुछ विचार है तो हमें कमेंट बॉक्स में शेयर करें

दोस्तों कैसे लगी आपको हमारी यह कहानी यह कोई फेक नहीं है यह एक रियल कहानी है जो कुलधरा के रहस्य को बयां करती है यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो अपना कमेंट जरूर शेयर करें...

  दोस्तों यदि ऐसी घटना आपके साथ में हुई है और आप लोगों के साथ में वह शेयर करना चाहते हैं तो हम आप की वह घटना हमारे आर्टिकल के थ्रू लोगों के सामने लाएंगे इसके लिए आप हमें आप कि वह पूरी कहानी लिख कर मेल कर दे।
March 27, 2019

भानगढ़ का भूतिया राज । भानगढ़ किले की डर की सच्ची तस्वीरें- कोई नहीं बचेगा सब मारे जाएंगे

The mystery of haunted fort-bhangarh   

      भानगढ़ राजस्थान का भूतिया किला
नमस्कार दोस्तों आज इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे भानगढ़ का रहस्य आखिर क्या है भानगढ़ का रहस्य और क्यों इसे भूतिया किला कहा जाता है।

आपको बता दें भानगढ़ किला अपनी पैरानॉर्मल एक्टिविटीज के कारण पूरे विश्व में प्रसिद्ध है और आने वाले विदेशी पर्यटकों के लिए एक आकर्षण का केंद्र है बहुत सारे ऐसे विदेशी पर्यटक आते हैं जो यह पता लगाना चाहते हैं कि क्यों भानगढ़ एक भूतिया है क्या हुआ था भानगढ़ में आज से 300 साल पहले।


The mistrey of bhangarh

  आपको बता दें भानगढ़ किला राजस्थान के अलवर जिले में स्थित है और  इस किले का निर्माण 16वीं शताब्दी में मुगल साम्राज्य के टाइम करवाया गया था भारतीय पुरातत्व विभाग ने भी सबूत इकट्ठा किए थे

यह वाकई में एक भूतिया है। भारतीय पुरातत्व विभाग ने जब इस किले की खुदाई की तब उन्हें ऐसी कुछ अजीबोगरीब वस्तुएं मिली जिसे देखकर भारतीय पुरातत्व विभाग ने और भारत सरकार ने मिलकर यह फैसला किया कि इस किले को बैन कर दिया जाए सूर्यास्त के बाद कोई भी इस किले के अंदर प्रवेश ना करें
और बहुत कड़ी सुरक्षा के अंदर रात के समय इस किले  को रखा जाता है क्या वजह है ?


आपको बता दें जब भारतीय पुरातात्विक विभाग ने अपने ऑफिस इस किले के अंदर बनाना चाहा तो 1 महीने के अंदर कुछ ऐसा हुआ कि उन्हें यहां से ऑफिस छोड़ना पड़ा और बहुत दूर यहां से ऑफिस बनाना पड़ा

 इस किले की एक सच्चाई यह भी है कि इस किले के अंदर बहुत सारे मंदिर हैं  लेकिन एक भी मंदिर के अंदर भगवान की मूर्तियां नहीं है।

     The real story of bhangarh fort

    अब सुनिए भानगढ़ की रहस्यमई कहानी

   भानगढ़ की यह कहानी भानगढ़ की राजकुमारी रत्नावती पर आधारित है 16 वी सताब्दी में भानगढ़ 
पर रत्नावती का साम्राज्य था और कहते हैं रत्नावती बहुत ज्यादा खूबसूरत थी और आसपास के इलाके के सारे राजकुमार रानी रत्नावती के रूप के दीवाने थे, हर कोई चाहता था कि वह रत्नावती से विवाह करे।

रत्नावती के रूप के चर्चे पूरे भारत में थे और पूरे भारत के जितने भी राजकुमार थे वह चाहते थे कि वह रानी रत्नावती से विवाह करें ।

 1 दिन रानी रत्नावती अपनी सहेली के साथ घूमने निकलती है और इसी दौरान एक दुकान पर पहुंचती है जहां पर वह एक इत्र की बोतल को पसंद करती है और उसे ढूंढती है इत्र की खुशबू रानी रत्नावती को बहुत ज्यादा पसंद आ जाती है ।
इसी दौरान दुकान के बाहर एक सिंधु सेवड़ा नाम का व्यक्ति जो कि पेसे से एक तांत्रिक था ।रानी रत्नावती को देख रहा था और वह रानी रत्नावती की खूबसूरती को देखकर उसका दीवाना हो जाता है और हर हाल में रानी रत्नावती को पाना चाहता है।

वह तांत्रिक रानी रत्नावती के राज्य में ही रहता है । और इतना आशक्त हो गया था कि वह हर हाल में रानी रत्नावती को पाना चाहता है ।

जिस इत्र की बोतल को रानी रत्नावती देख रही थी उस इत्र की बोतल पर उस तांत्रिक ने टोना-टोटका कर दिया था । लेकिन उस दुकान का मालिक बहुत समझदार था               
           उसने रानी रत्नावती को बता दिया।
रानी रत्नावती ने उस इत्र  की बोतल को उठाया और पत्थर पर मारकर उस इत्र की बोतल को तोड़ देती है जिससे सारा इत्र उस पत्थर पर बिखर जाता है और इसी दौरान वह पत्थर तांत्रिक की तरफ खिसकने लगता है। और तांत्रिक को कुचल देता है पत्थर इतना भयानक था की मौके पर ही तांत्रिक की मौत हो जाती है और मरते मरते तांत्रिक एक श्राप  दे जाता है
  
   "किले में रहने वाला कोई भी जिंदा नहीं बचेगा.. सब मारे जाएंगे सबकी आत्मा सालों तक मेरी तरह भटकती रहेगी और आने वाले टाइम में कोई भी इस किले पर  शासन नहीं कर पाएगा"
       यहां पर ताउम्र आत्मा भटकेगी

और तब से लेकर आज तक भानगढ़ और अजबगढ़ में सारे लोग मारे गए । जितने भी किले में थे सारे मारे गए कोई भी जिंदा नहीं बचा और दोनों कीले खंडहर में तब्दील हो गए यह भी कहते हैं कि आज भी इस किले में उस स्थान पर तांत्रिक की आत्मा भटकती है ।

 और दूसरी कहानी यह भी है कि वह सिंधु सेवड़ा नाम का तांत्रिक किले के पास कहीं पहाड़ी पर तांत्रिक क्रियाएं करता था और वह महारानी का दीवाना था  एक दिन जब महान महारानी की दासी महारानी के लिए बालों का तेल लेने आई, तब उस तांत्रिक ने उस बालों के तेल में जादू टोना कर दिया । "जो भी इस दिल को अपने बालों में लगाएगा वह तांत्रिक के बस में हो जाएगा"


 तब से लेकर आज तक भानगढ़  मैं हजारों ऐसी घटनाएं घट गई है जिससे यह साबित होता है कि यहां पर आत्माओं का वास है और आत्मा दिन में भी देखने को मिल जाती है।

 तांत्रिक का श्राप था कि यहां की एक भी आत्मा को मुक्ति नहीं होगी सारी रात माई सालों तक भटकती रहेगी और वही हो रहा है।

तब से लेकर अब तक भानगढ़ में रात को जाना वर्जित है जो भी रात को भानगढ़ किले में प्रवेश किया वह आज तक वापस नहीं आया यह रिकॉर्ड है भानगढ़ पर हजारों में डॉक्यूमेंट्री पिक्चरें बनी हुई है।
 राजस्थान के अलवर जिले का यह भानगढ़ पूरे विश्व में अपनी भूतिया गतिविधियों के लिए जाना जाता है।

    दोस्तों कैसे लगी आपको हमारी यह कहानी यह कोई फेक नहीं है यह एक रियल कहानी है जो भानगढ़ के रहस्य को बयां करती है यदि आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो अपना कमेंट जरूर शेयर करें...
March 24, 2019

मैंने 7 दिन में ₹50000 myincomewallet से कमाये ।। earn 50 thousand rupees from myincomewallet

earn 50 thousand rupees from myincomewallet 

 नमस्कार दोस्तों मेरा नाम pareeta है और आज मैं आपको बताऊंगी कि आप किस प्रकार ऑनलाइन काम करके आसानी से महीने का 40 से ₹50000 कमा सकते हैं ।

क्या आप जानते हो मल्टी लेवल मार्केटिंग क्या है मल्टी लेवल मार्केटिंग को इंग्लिश में एम एल एम के नाम से जाना जाता है मल्टी लेवल मार्केटिंग में इंसान एक से ज्यादा लेवल तक अधिक से अधिक कमा सकता हैं 




मल्टी लेवल मार्केटिंग में काम करने के लिए आपके पास ज्यादा नॉलेज की आवश्यकता नहीं है यदि आपको ऑनलाइन काम करना पसंद है तो आप मल्टी लेवल मार्केटिंग कर सकते हैं !

आज मैं आपको माय इनकम वॉलेट के बारे में बताता हूं myincomewallet मल्टी लेवल मार्केटिंग वेबसाइट है इस पर हम काम करके आसानी से  ₹40000  कमा सकते है!


Myincomewallet

Myincomewallet  में अकाउंट बनाने के लिए आपको ईमेल आईडी और मोबाइल नंबर की आवश्यकता होती है !


Myincomewallet में अकाउंट कैसे बनाते हैं इसके लिए आप यह आर्टिकल पढ़ सकते हैं इस आर्टिकल में हमने बताया है कि हम किस प्रकार myincomewallet में अकाउंट बना सकते हैं

Open link and create account..http://www.myIncomeWallet.in/?referer=566360

Myincomewallet में अकाउंट बनाने के बाद में आपको एक आईडी मिलती है आपको इस आईडी को ग्रीन करवाना पड़ता है ग्रीन करवाने के लिए आपको एक थोड़ा सा फंड देना पड़ता है जैसे यदि आप माय इनकम वॉलेट को ज्वाइन करते हो तो आपको जो आईडी मिलती है उसको ग्रीन करवाने के लिए आपको लाइफ में एक बार केवल ₹1000 देने पड़ते हैं जिससे आपकी आईडी एक्टिव हो जाती है अब आप इस पर काम कर सकते हैं

Myincomewallet में आपको दो प्रकार की इनकम मिलती है एक रेफरल इनकम, और एक लेवल इनकम रेफरल इनकम में यदि आप किसी अन्य मेंबर को आपकी आईडी के थ्रू ज्वाइन करवाते हो तो आपको प्रत्येक मेंबर के हिसाब से ₹525 मिलते हैं यानी आप रमेश हो और आपने रवि  को ज्वाइन करवाया तो आपको ₹525 मिलते हैं और रवि को ₹100 bonous मिलता है

और इसके बाद आपको यह ₹1000 जो आईडी एक्टिवेशन फीस लेती वो वापिस हो जाते हैं

 विड्रोल प्रोसेस बहुत ही आसान है आप अपने पेटीएम अकाउंट में भी ट्रांसफर कर सकते हैं बैंक अकाउंट में भी और गूगल प मैं भी आप पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं जैसे ही आपके अकाउंट में ₹1000 हो जाते हैं आप withdrawal कर सकते हैं !

15 मिनट में आपका पैसा आपके अकाउंट में ट्रांसफर हो जाता है

 इसमें आपको दो प्रकार की इनकम दिखाई देती है एक एक्टिव इनकम जिसे आप अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं दूसरी इन एक्टिव जिसे आप एक्टिव होने के बाद अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर सकते हैं !

इसमें काम करना बहुत ही आसान है यदि आपके पास व्हाट्सएप ग्रुप है तो आप व्हाट्सएप ग्रुप में इसकी पोस्ट को शेयर करें जैसे कोई व्यक्ति आपके लिंक से जॉइन होता है और I'd green करवाते हैं तो आपको ₹525 मिलते हैं !



इस पोस्ट में हमने myincomewallet के बारे में, आपको बताया है कि मैं myincomewallet क्या है किस प्रकार हम जॉइन कर सकते हैं ?और कमा सकते हैं ऑनलाइन आसानी से...